कवर्धाछत्तीसगढ़

पटेल समाज ने भाजपा और कांग्रेस से मांगी विधानसभा की टिकट, नही मिलने पर बगावत की चेतावनी

कवर्धा , छत्तीसगढ़ राज्य में विधानसभा चुनाव की सरगर्मी चरम सीमा पर है । प्रमुख राष्ट्रीय राजनैतिक दल अपने संभावित उम्मीदवारों की सूची भी जारी कर रहे हैं।

छत्तीसगढ़ में मरार समाज की जनसंख्या लगभग पैतालीस लाख के आसपास है और समाज का झुकाव स्पष्टतः भारतीय जनता पार्टी एवं कांग्रेस पार्टी की ओर रहता है ।

छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के बाद से ही प्रत्येक चुनाव में मरार समाज ने भा ज पा और कांग्रेस से शक्ति प्रदर्शन करते हुए समाज से प्रत्याशी दिए जाने का निवेदन किया है । विधानसभा चुनाव 2023 के लिए भी समाज ने पांच विधानसभा क्षेत्रों (सक्ती , जांजगीर, महासमुंद, कटघोरा

, कवर्धा) खल्लारी ,अभनपुर ,बलोद , कसडोल ,अकलतरा से उम्मीदवार देने हेतु पार्टी से निवेदन किया गया था लेकिन संभावित सूची में केवल कटघोरा और पंडरिया से समाज को टिकट दिए जाने का संकेत मिल रहा है । किन्तु शायद भारतीय जनता पार्टी मरार समाज को अयोग्य मानकर पांचों सीटों पर उम्मीदवारी नही देना चाह रहा है , ऐसा संकेतों से प्रतीत होता है।

छत्तीसगढ़ मरार समाज एवं मरार महासंघ ने प्रेस वार्ता के माध्यम से अपने पूर्व मांग ( सक्ती , जांजगीर, महासमुंद, कटघोरा,बालोद , कवर्धा ,खल्लरी ,अभनपुर ,कसडोल, अकलतरा विधानसभा क्षेत्र में मरार समाज की उम्मीदवारी ) पर कायम है और पार्टी से समय रहते मरार समाज से उम्मीदवार की मांग करता है , विशेषकर संकेत मिल रहे सीटों के अतिरिक्त सक्ती विधानसभा और जांजगीर ,महासमुंद विधानसभा सीट के लिए कटिबद्ध है , इन तीनो, सीटों पर मरार कांग्रेस प्रत्याशी् घोषित किया जाय और दोनों पार्टी के मेन बाडी़ मे कम से कम पांच पांच नाम को शामिल किया जाए कांग्रेस

एवं भाजपा मरार समाज की इस मांग पर ध्यान नहीं देती है और मरार समाज से प्रत्याशी घोषित नहीं करती है तो मरार महासंघ छत्तीसगढ़ के इस प्रेस वार्ता के माध्यम से स्पष्ट करना चाहते हैं कि ऐसी स्थिति में भारतीय जनता पार्टी एवं कांग्रेस पार्टी को मुंह की खानी पड़ सकती है । मरार समाज भा ज पा , कांग्रेस पार्टी के विरोध में कार्य करते हुए भाजपा एवं कांग्रेस के प्रत्याशियों को हराने का कार्य करेगी साथ ही तीसरी विकल्प की ओर भी जा सकती है । भाजपा प्रत्याशी को हर हाल में हराना मरार समाज का लक्ष्य होगा , जिसके लिए सामाजिक बैठक कर रहे है और छत्तीसगढ़ प्रदेश में आम सहमति भी बना रहे है । कृष्ण कुमार प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष राजनीति प्रकोष्ठ, मरार पटेल महासंघ छत्तीसगढ़़ को बिना बताये कसडोल भाजपा मंडल अध्यक्ष पद से हटा दिया गया हैं जिससे पुरे समाज आहत हुए हैं जिससे भारतीय जनता पार्टी को भारी पड़ सकता हैं और मरार समाज के मांग अनुसार भाजपा एवं कांग्रेस पार्टी पांच पांच सीट पर समाज का प्रत्याशी घोषित करे और संभावित हार से निजात पाए । प्रेसवार्ता में मरार महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष देवचरण पटेल, दुर्गा पटेल, बसंत पटेल, कृष्ण कुमार पटेल जिला अध्यक्ष मोतीराम पटेल सहित सामाजिक पदाधिकारी मौजूद थे ।

Related Articles

Back to top button
× How can I help you?